जिन्दगी

हसँना और हसँना जिन्दगी की जरूरत है ा

जिन्दंगी को ईस अन्दांज मे जियो कि लोग देखकर 

कहे वाह जिन्दंगी कितनी खूबशुरत है ा