जिन्दगी

कभी हसाती रही

कभी रूलाती रही

ये.जिन्दगी हमें यू.ही आजमा ती रही

नित नित.नये रंग दिखाता रही

बडी रंगीन हैं ये जिंदगी

बडी हसीना हैं ये जिंदगी

कभी धूप तो कभी छाव.हैं ये जिंदगी

वैसे तो बहुत कुछ सीखलाती हैं ये जिन्दगी

पर न.हो कुछ तो सासे भी छीन कर ले जाती हैं ये जिन्दगी

Advertisements

दान की महिमा

दान से. बडा कर्म नही

दान से बडा धर्म नही

वे दो मे वर्णित दान की महिमा

दान दिलाता.गौरव गरिमा

दान मे दान विदया.का दान

जिससे पशु भी बन जाता है इंनसान

बडी. महिमा हैं दान की

दान कराता है.पहचान सच्चे इन्सान की

जिन्दगी

हसँना और हसँना जिन्दगी की जरूरत है ा

जिन्दंगी को ईस अन्दांज मे जियो कि लोग देखकर 

कहे वाह जिन्दंगी कितनी खूबशुरत है ा